Tags

, ,

जा के समन्दर के किनारे तुम
अपने हाथों में पानी उठा लेना
जितना तुम उठा लो वो तुम्हारी चाहत …
और जो न उठा सको वो हमारी मोहोब्बत …ja kay

Advertisements