Tags

इश्क़ का होना भी लाज़मी है शायरी के लिए,
सिर्फ कलम लिखती तो आज हर कोई ग़ालिब होता..!!

Ishq ki kalam

Advertisements